जबलपुर 

16 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न  स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की प्रथम पुण्यतिथि है। भारतीय जनता पार्टी से जुड़े लोग और संगठन इस दिन श्रद्धांजलि सभाओं का आयोजन करेंगे लेकिन अचरज वाली बात यह है कि जबलपुर में एक कांग्रेस नेता ने पुण्यतिथि पर एक आयोजन रखा है। इस नेता ने पिछला विधानसभा चुनाव भी अटल जी के फोटो के साथ ही लड़ा था।

इस कांग्रेस नेता का नाम है धीरज पटेरिया। मध्य प्रदेश की राजनीति में धीरज पटेरिया किसी पहचान के मोहताज नहीं है। वे 2004 में भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष थे। लगभग इसी समय महाराष्ट्र के वर्तमान मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष थे।

प्रदेश अध्यक्ष के रूप में अपना कार्यकाल पूरा कर लेने के बाद धीरज पटेरिया को लंबे समय तक पार्टी ने कोई जिम्मेदारी नहीं दी। हालांकि पटेरिया की पहचान युवा मोर्चा की सबसे मजबूत प्रदेश अध्यक्षों में होती है उनकी सक्रियता इतनी थी कि जबलपुर से लेकर ग्वालियर तक तथा मंदसौर से लेकर रीवा तक उनका नेटवर्क आज भी है। 

वे 15 वर्षों तक जबलपुर उत्तर मध्य सीट से विधानसभा का टिकट प्राप्त करने का प्रयास करते रहे लेकिन सफलता नहीं मिली। अंततः 2018 के विधानसभा चुनाव में उनका धैर्य जवाब दे गया और उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया। अविवाहित पटेरिया का न तो कोई बैंक खाता था और ना ही कोई संपत्ति। उनके लिए सारे बंदोबस्त कार्यकर्ताओं ने किए। प्रचार के लिए पटेरिया अटल बिहारी वाजपेई के पोस्टर का इस्तेमाल करते थे।

यहां से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर प्रदेश सरकार में मंत्री शरद जैन मैदान में थे। पटेरिया तीसरे नंबर पर आए लेकिन उन्हें मिले 30,000 से ज्यादा वोट शरद जैन की विधायकी खत्म करने के लिए काफी थे। यहां से कांग्रेस के विनय सक्सेना चुनाव जीते। 

 बाद में लंबे समय तक इस बात के भी चर्चे होते रहे कि पटेरिया लोकसभा का चुनाव भी निर्दलीय लड़ेंगे लेकिन उन्होंने राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस का दामन थाम लिया लेकिन अटल जी आज भी उनके आदर्श हैं।

यह मामला इसलिए खास है कि सामान्यतः नेता पार्टी बदलने के बाद अपनी पुरानी सारी बातों को भूल जाते हैं। लेकिन पटेरिया ने अपने आदर्श नेता का दामन अब तक नहीं छोड़ा है। यह भी संभव है कि उनके इस कदम से कांग्रेस की राजनीति में उन्हें नुकसान भी उठाना पड़े लेकिन पटेरिया को जानने वाले लोग कहते हैं कि वह इसी तरह हैं।

अटल जी को याद करते हुए पटेरिया कहते हैं किश्रद्धेय अटल जी हमेशा हमारे ह्रदय में जीवित रहेंगे, अटल जी के कर्मों और आदर्शों को अपने जीवन में उतारने की कोशिश करी है और सदा उसी दिशा में प्रयासरत रहूंगा, लेकिन उनके जैसा न पहले कोई था न आगे कोई बन पाएगा, उनके व्यक्तित्व को अपनी जीवनशैली में उतार पाऊं, यही उनकी चरणधूलि से प्रार्थना है । श्रद्धेय अटल जी हमारे आदर्श थे और रहेंगे 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *