विश्व हिन्दी दिवस पर पूरी शक्ति के साथ सोशल मीडिया पर हिन्दी विरोध किया गया। #StopHindiImposition और #StopHindiImperialism ट्रेंड कराए गए और एक समय तो ये #हिन्दीदिवस से ज्यादा ट्रेंड कर रहे थे।

इंदौर हिंदी दिवस के दिन राष्ट्रद्रोहियों का एक और दुष्चक्र सामने आया है। देश में चल रही राष्ट्रवाद की लहर सत्ता गंवाने से पीड़ित वामी और कांगी मानसिकता के लोग किसी भी स्तर तक गिरने को तैयार हैं। जब देश 66 वां हिंदी दिवस मना रहा था उस समय सोशल मीडिया पर भाषा के नाम से देश का विभाजित करने का षडयंत्र रचा जा रहा था। जब इस फैसले के पीछे छिपे लोगों को आप देखेंगे तो पाएंगे कि यह वही लोग हैं जो कि 2014 में सत्ता गंवाने के बाद जिन्हें अचानक असहिष्णुता दिखाई देने लगी थी। या फिर रोहित वेमुला के मामले को जिन्होंने राजनीतिक अवसर समझा था।

जब हम #StopHindiImposition और #StopHindiImperialis हैश टैग को देखेंगे तो पाएंगे कि इस मुद्दे पर ट्वीट करने वाले अधिकांश लोग एक विशेष प्रकृति के हैं। इनमें से कईं के परिचय में कांग्रेस कार्यकर्ता होने की बात का भी उल्लेख है।जिस तरह से ये हिन्दी हैशटैग ट्रेंड कराए गए हैं वे इस बात का संकेत देते हैं कि इस बार एक बार फिर से भाषा के मुद्दे पर देश में अशांति का वातावरण बनाने की तैयारी की जा रही है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के समय भी वहां पर दुकानों से हिंदी के बोर्ड हटाने का प्रयास किया गया था।

तमिलनाडू में कुछ समय बाद फिर से चुनाव हैं। तथा सत्ता से बाहर चल रही द्रमुक का वामपंथी दलों और कांग्रेस के साथ गठबंधन हैं, ऐसे में ये हैश टैग इन चुनाव में भाषा का मुद्दा उठाने की तैयारी भी हो सकता है। हाल ये था कि शनिवार रात नौ बजे तक #StopHindiImposition के हैशटैग के साथ 90 हजार से ज्यादा ट्वीट किए जा चुके थे। इसी तरह से #StopHindiImperialism के हैशटैग के साथ 60 हजार से ज्यादा ट्वीट किए जा चुके थे। इस तरह उस समय ये दोनों हैश टैग भारत में पहले और तीसरे स्थान पर ट्रेंड कर रहे थे। हालांकि दिन में #हिन्दी_दिवस पहले स्थान पर था। लेकिन शाम के घंटों में यह पीछे हो गया था।


ट्विटर पर किसी हैश टैग को इतने बड़े पैमाने पर ट्रेंड कराना सरल नहीं होता है। इसके लिए बहुत तैयारी लगती है। सरकार को इस मामले की जांच करानी चाहिए।

डीएस बालाजी , सोशल मीडिया मैनेजर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *