Goonj

Voice of the Students of India

एक ऑक्टोपस जो बताता था कि कौन जीतेगा विश्व कप फुटबाल में

कुल 14 भविष्यवाणी की जिनमें 12 सही निकली थी

2010 का विश्व कप बहुत सी बातों के अलावा एक अष्टभुजा के जीव के लिए भी जाना जाता है। ये जीव मैच के पहले ये इस बात की भविष्यवाणी करता था कि इसमें कौन सी टीम जीतेगी। ये विश्व कप स्पेन ने जीता था और पॉल नामक इस ऑक्टोपस ने इसकी सही सही भ‌विष्यवाणी की थी। इस ऑक्टोपस ने कुल 14 नैचों की भ‌विष्यवाणी की थी जिनमें 12 की भविष्यवाणी सही निकली थी। ये ऑक्टोपस जर्मनी का था और प्रमुख रूप से इसने जर्मनी के मैचों के लिए भविष्यवाणी की थी। उस समय इस ऑक्टोपस का पॉल बाबा के नाम से जाना जाने लगा था।

Paul Predicting the match winner

पॉल को जर्मनी के ओबरहाउसन स्थित सी लाइफ सेंटर में रखा गया था। हालांकि उसे इंग्लैंड से लाया गया था। उसका जन्म इंग्लैंड के वेमाऊथ के सेंटर में 26 जनवरी 2008 को हुआ था। पहलीबार उसने 2008 के यूरो कप में ही जर्मनी के चार मैचों में जीत की सही सही भ‌विष्य वाणी की थी। इसके बाद उसनें 2010 के विश्व कप फुटबाल में जर्मनी के लिए सात मैचों में भविष्यवाणी की। इसमें सबसे खास तीसरे स्थान के लिए जर्मनी और उरुग्वे के बीच खेला गया मैच भी शामिल है। इस मैच में उरुग्वे को फेवरिट माना गया था लेकिन पॉल ने इस मैच में जर्मनी की जीत की  भविष्यवाणी की थी, जो सही निकली थी। पॉल की भविष्यवाणी केवल दो मैचों में ही गलत निकली इस तरह से उसके सही प्रेडिक्शन की दर 85 प्रतिशत से ज्यादा थी।

ऐसे करता था भविष्यवाणी

पॉल से भविष्यवाणी कराने के लिए सी लाइफ सेंटर के अधिकारी उसके सामने दो कंटेनर में खाना रखते थे। दोनों कंटेनर पर मैच में आमने सामने उतर रहे देशों का झंडा लगा होता था। पॉल को खाने के लिए छोड़ा जाता था। वो जिस कंटेनर से पहले खाना खाता था ये माना जाता था कि उस कंटेनर पर लगे झंडे वाली टीम मैच जीतेगी। पॉल के पास मैच के ड्रा होने के चुनाव की कोई गुंजाइश नहीं थी फिर भी उसकी भविष्यवाणी बहुत हद तक सही थीं और इसने उसे दुनिया में एक सेलिब्रिटी बना दिया।

क्या खास था पॉल में

सी लाइफ सेंटर के डायरेक्टर डेनियल फे के अनुसार पॉल ने बहुत कम उम्र में कुछ खास समझदारी दिखाई थी। फे के अनुसार जब कोई विजिटर उसके टैंक के पास आता था तो पॉल अलग निगाहों से उन्हें देखता था। यह असामान्य था इसके चलते हमने उसके विशेष टैलेंट के बारे में जानने की कोशिश की थी। वैज्ञानिकों का मानना है कि पॉल का विजेता टीम को चुनने का तरीका टॉस करने जैसा था लेकिन फिर भी उसने जिस सटीकता से मैच के परिणामों की भविष्यवाणी की वो असामान्य है।

ढ़ाई साल में दुनिया से चला गया पॉल

पॉल को प्रसिद्धि मिलने के बाद उसे खरीदने के ऑफर भी आए। उसके लिए तीस हजार डॉलर की बोली भी लगाई गई लेकिन सी लाइफ सेंटर ने उसे देने से इंकार कर दिया। 26 अक्टूबर 2010 को पॉल उपने टैंक में मृत पाया गया। 25 अक्टूबर को जब सेंटर के स्टॉफ ने उसे चैक किया था तो वो बिलकुल ठीक था। पॉल उस समय केवल ढ़ाई साल का था लेकिन ऑक्टोपस का जीवन काल इतना ही होता है। ढ़ाई साल में पॉल ने इतना नाम कमाया की तीन विश्व कप बाद भी उसकी चर्चा होती है।

error: Content is protected !!