5th December 2022

रावलपिंडी में सौ साल पुराने हिंदू मंदिर पर हमला, नहीं मनी होली

इस्लामाबाद

पाकिस्तान में एक बार हिन्दू मंदिर को निशाना बनाया गया है। इस बार रावलपिंडी में सौ साल पुराने हिन्दू मंदिर में तोड़फोड़ की गई है। इससे वहां के स्थानीय निवासियों में रोष है और विरोधस्वरूप हिन्दू समुदाय ने रावलपिंडी में होली नहीं मनाई है। कल ही पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने हिन्दू समुदाय को होली की शुभकामनाएं दी थीं।

पुलिस को मामलो की शिकायत मिली है। इस मंदिर के नवीकरण का काम चल रहा है। शिकायत के अनुसार शहर के पुराना किला इलाके में शनिवार शाम साढ़े सात बजे 10 से 15 लोगों के समूह ने मंदिर पर हमला किया। बताया गया है कि 24 मार्च को इस मंदिर के सामने बने अतिक्रमण को हटाया गया था।

सोमवार के हमले में हमलावरों ने ऊपरी मंजिल के मुख्य द्वार और एक अन्य दरवाजे के साथ-साथ सीढ़ियां भी तोड़ दीं। ‘डॉन’ समाचार पत्र की खबर के अनुसार इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) उत्तरी जोन के सुरक्षा अधिकारी सैयद रजा अब्बास जैदी ने रावलपिंडी के बन्नी थाने में शिकायत दी, जिसमें बताया गया है कि पिछले एक महीने से मंदिर के निर्माण और नवीनीकरण का काम चल रहा है।

अभी पूजा नहीं हो रही थी मंंदिर में

जैदी ने कहा कि मंदिर के सामने कुछ अतिक्रमण किया गया था, जिसे 24 मार्च को हटा दिया गया। मंदिर में धार्मिक गतिविधियां शुरू नहीं हुई हैं और न ही वहां पूजा के लिये कोई मूर्ति रखी गई है। उन्होंने मंदिर और उसकी पवित्रता को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है। इससे पहले, अतिक्रमण करने वालों ने मंदिर के आसपास दुकानें और पटरियां बनाकर काफी लंबे समय से कब्जा कर रखा था।

जिला प्रशासन ने पुलिस की मदद से हाल ही में सभी तरह का अतिक्रमण हटा दिया। मंदिर को अतिक्रमण मुक्त कराए जाने के बाद नवीनीकरण का काम शुरू हुआ था। इस बीच, मंदिर के प्रशासक ओम प्रकाश ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि सूचना मिलते ही रावलपिंडी के पुलिस कर्मी वहां पहुंचे और हालात काबू में किया। ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की खबर के अनुसार प्रकाश ने कहा कि पुलिस मंदिर के साथ-साथ उनके घर के बाहर भी तैनात है। हालांकि उन्होंने कहा कि मंदिर में होली का जश्न नहीं मनाया जाएगा। बताया गया है कि हिन्दू परिवारो के घरों पर भी पुलिस तैनात की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!