5th December 2021

मद्रास हाईकोर्ट ने फर्जी पत्रकारों और ब्लेकमैलिंग की समस्या से निपटने के लिए प्रेस परिषद के गठन का आदेश दिया

पत्रकारों द्वारा की जाने वाली ब्लैकमेलिंग के मामले भी देखेगी यही परिषद

चैन्नई

मद्रास हाईकोर्ट ने फेक न्यूज़ और फर्जी पत्रकारों की समस्या से निपटने के लिए 19 अगस्त को एक एतिहासिक आदेश दिया है। इस आदेश में कोर्तट ने मिलनाडु सरकार को तीन महीने के भीतर प्रेस परिषद के गठन को कहा है।इतना ही नहीं हाईकोर्ट ने अपने आदेश में इस प्रस्तावित परिषद को व्यापक अधिकार दिए हैं, जिसमें राज्य के प्रेस क्लबों, पत्रकार संघों या यूनियन को मान्यता देने का अधिकार भी शामिल है।हालांकि इस आदेश से पत्रकार संगठन खुश नहीं हैं उनका कहना है कि इससे प्रेस की स्वतंत्रता बाधित हो सकती है।

समाचार एवं पत्रकार संगठनों ने मद्रास हाईकोर्ट के इस फैसले को लेकर चिंता जताई है। कोर्ट ने अपने आदेश में ब्लैकमेलिंग जैसी गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल फर्जी पत्रकारों से निपटने की बात कही है।

सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में बनाएं प्रेस परिषद

मद्रास हाईकोर्ट ने 19 अगस्त के आदेश में तमिलनाडु सरकार से राज्य प्रेस परिषद का गठन करने को कहा है। आदेश में कहा गया है कि इस प्रस्तावित तमिलनाडु प्रेस परिषद (पीसीटीएन) की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जज करेंगे और इसके सदस्यों में अनुभवी पत्रकार और सेवानिवृत्त आईएएस और आईपीएस अधिकारी होंगे।

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, हाईकोर्ट ने इस प्रस्तावित संगठन को व्यापक अधिकार दिए हैं, जिसमें राज्य में प्रेस क्लबों, पत्रकार संघों या यूनियन को मान्यता देने का अधिकार शामिल है।अदालत ने अपने आदेश में कहा, ‘इसके साथ ही यह परिषद इन प्रेस क्लबों, यूनियन या एसोसिएशन में चुनावों भी कराएगा।

पीठ ने अपने आदेश में कहा था, ‘प्रेस परिषद द्वारा हर एसोसिएशन में एक निश्चित अवधि के भीतर चुनाव कराया जाना चाहिए और ऐसा नहीं होने पर कोई भी पत्रकार निकाय स्वत: ही परिषद के अधिकार क्षेत्र में आ जाएगा। इसके साथ ही अब सरकार को सीधे पत्रकारों को मकान आवंटित करने या उन्हें बस पास देने की मंजूरी नहीं होगी। इन लाभ के लिए अब आवेदन प्रेस परिषद के पास जाएगा और उचित आकलन के बाद ही इन्हें जारी किया जाएगा।’

फर्जी पत्रकारों के खिलाफ केस दर्ज कराएगी प्रेस परिषद

जजों की पीठ ने अपने आदेश में कहा, ‘प्रेस परिषद के पास फर्जी पत्रकारों की पहचान करने और उनके खिलाफ संबंधित अधिकार क्षेत्र के पुलिस थानों में शिकायत दर्ज कराने की शक्ति होगी। फर्जी पत्रकारों के बारे में आमजन भी अपनी शिकायतें वेलफेयर बोर्ड को भेज सकते हैं, जिसकी जांच होने पर इस तरह के फर्जी पत्रकारों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी, क्योंकि इस तरह के पत्रकार समाज के लिए खतरे की तरह हैं। ’

इसके साथ ही राज्य सरकार को प्रेस स्टिकर, पहचान पत्र जारी करने या मीडिया संगठनों को दिए जाने वाले अन्य लाभ तब तक देने की मंजूरी नहीं होगी, जब तक मीडिया संगठन अपने कर्मचारियों की संख्या, उनका वेतन या कर भुगतान की जानकारी न दे।

दस हजार प्रतियों से कम संख्या वाले अखबार कर्मी नहीं माने जाएंगे पत्रकार

आदेश में कहा गया, ‘राज्य सरकार/प्रेस परिषद प्रिंट मीडिया, पत्रिकाओं या दैनिक समाचार पत्रों को तब तक प्रेस पहचान पत्र या मीडिया स्टिकर जारी नहीं करेगा, जब तक यह प्रमाण उपलब्ध नहीं कराया जाए कि उनके दैनिक, साप्ताहिक, पाक्षिक या मासिक समाचार पत्रों या पत्रिकाओं का सर्कुलेशन कम से कम 10,000 कॉपी है और इसी सर्कुलेशन के अनुपात के आधार पर प्रेस आईडी कार्ड की संख्या को बढ़ाया जा घटाया जाएगा.’

अदालत ने राज्य सरकार से इन निर्देशों का पालन करने और चार हफ्ते के भीतर रिपोर्ट दर्ज करने को कहा है।

आदेश स्पष्ट नहीं है

द हिंदू ने संपादकीय में गैरकानूनी और गलत गतिविधियों में शामिल पत्रकारों की समस्याओं को वास्तविक समस्या बताने से सहमति जताते हुए कहा कि अदालत ने एक परिषद का गठन कर उसे शक्तियां देकर कुछ ऐसा किया है, जो आमतौर पर कानून द्वारा व्यापक विचार-विमर्श के बाद किया जाता है।

संपादकीय में कहा गया कि अदालत ने यह आदेश साफ मंशा से दिया है, लेकिन यह काफी चौंकाने वाला है कि न्यायिक निर्देश के द्वारा इस तरह के दूरगामी उपाय की मांग की गई।

वरिष्ठ पत्रकार एएस पनीरसेल्वम ने बताया कि यह आदेश फर्जी पत्रकारों, एजेंडा आधारित खबरें आदि को स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं करता और फेक न्यूज को फिल्टर करने की प्रक्रिया को भी जटिल बनाता है।

उन्होंने अदालत की मंशा की सराहना करते हुए कि आदेश पत्रकारों को लाभ और पत्रकार निकायों के प्रबंधन जैसे बाहरी कारकों को पत्रकारिता की गुणवत्ता और इसके कंटेंट जैसी मुख्य चिंताओं में मिला देता है।

उन्होंने कहा कि अगर अदालत का उद्देश्य फर्जी पत्रकारिता को खत्म करना है तो मीडिया के लिए अधिक सख्त और कठोर नियामक ढांचा बनाने के बजाय अलग दृष्टिकोण का पालन करना चाहिए।

वहीं, इंडियन जर्नलिस्ट्स यूनियन ने जारी बयान में कहा कि वह फेक न्यूज और फर्जी पत्रकारों से निपटने के लिए अदालत की चिंता को समझ सकते हैं लेकिन यह भी देखना होगा कि इन उपायों से मीडिया को ही नुकसान नहीं पहुंचे।

error: Content is protected !!