5th December 2022

केरल में SDPI की रैली के दौरान हिसंक झड़प, RSS कार्यकर्ता नंदू की मौत

एसडीपीआई है इस्लामिक संगठन पीएफआई की राजनीतिक ईकाई

अलप्पुझा (केरल)

केरल में इस साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और इसके पहले वहां पर राजनीतिक हिंसा का दौर शुरू हो गया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के बीच झड़प के रूप में गुरुवार सुबह केरल के अलाप्पुझा जिले में तनाव की स्थिति पैदा हो गई। इस दौरान आरएसएस के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई।

बुधवार को देर रात हुई इस झड़प में छह लोग घायल हो गए। एसडीपीआई ने क्षेत्र में रैली निकाली थी इस रैली में हिंसा भड़क गई। घायलों में दो की स्थिति गंभीर बनी हुई है। वहीं इस मामले में भाजपा और आरएसएस ने अलप्पुझा बंद करने की घोषणा की है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार चेर्थला के पास नगमकुलनगरा इलाके में आरएसएस और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के बीच हुई झड़प में संघ के कार्यकर्ता नंदू आर कृष्णा की मौत हो गई।  वे 26 वर्ष के थे। एसडीपीआई इस्लामिक संगठन पीएफआई की राजनीतिक इकाई है।

पुलिस ने बताया कि झड़प में कई अन्य लोग घायल भी हुए हैं। हालांकि, उसने मामले में अधिक जानकारी साझा नहीं की। केरल की भाजपा इकाई के अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने आरएसएस कार्यकर्ता की मौत की निंदा की और इसके लिए पीएफआई को जिम्मेदार ठहराया।

अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं

आपको बता दें कि पुलिस ने इस मामले में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है। इस मामले से परिचित लोगों ने बताया है कि यह हत्या बदले की भावना में की गई है। हिंसा को देखते हुए पूरे इलाके में पुलिस की उपस्थिति बढ़ा दी गई है।

एसडीपीआई, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का यूथ विंग है। इससे पहले भी यह विंग ऐसे कई संघर्षों में शामिल रहा है। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर शुरू से ही हिंसक झड़प और राजनीतिक हत्याओं के आरोप लगते रहे हैं। 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद इस संगठन का गठन किया गया था।

गुरुवार को बंद

आरएसएस कार्यकर्ता की मौत के बाद, गुरुवार को जिलाव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है।भाजपा जिला अध्यक्ष एमवी गोपकुमार ने कहा, भाजपा और हिंदू संगठनों ने कल रात एसडीपीआई कार्यकर्ताओं के साथ झड़प में आरएसएस कार्यकर्ता की मौत के विरोध में आज सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक अलप्पुझा जिले में बंद का आह्वान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!