23rd February 2024

मलेशिया के हिन्दू क्यों अपना शरीर छेदते हैं?

जानिए तमिल त्योहार थाईपुसम को

हर साल जनवरी या फरवरी के महीने में मलेशिया में रहने वाले हिन्दू समुदाय, विशेष रूप से तमिल हिन्दू समुदाय दिल को दहलाने वाले फोटो सामने आते हैं। इसमें भगवान मुरुगन के भक्त अपने शरीर में जगह जगह नुकीले सरीए से छेद कर देते हैं और शोभायात्रा में शामिल होते हैं। इस त्यौहार का नाम थाईपुसम है और ये भारत के तमिलनाडु में भी मनाया जाता है लेकिन भारत में इसमें श्रद्धालु केवल कांवड़ लेकर शामिल होते हैं। एक तमिल हिंदू त्योहार है जो तमिल महीने थाई की पहली पूर्णिमा के दिन पुसम तारे के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार हिंदू भगवान मुरुगन की राक्षस सुरापदमन पर पार्वती द्वारा दिए गए एक दिव्य भाले, वेल का उपयोग करके जीत की याद में मनाया जाता है ।

इस बार फिर मलेशिया के राजधानी कुआलालंपुर में थाईपुसम मनाया गया है और इसके फोटो विश्व की सभी समाचार एजेंसियों ने जारी किए हैं। इस बार यह त्यौहार 25 जनवरी को मनाया गया है। जहां तक तमिलनाडु की बात करें तो यहां पर पलानी शहर में इसे बहुत उत्साह से मनाया जाता है। यहां हजारों भक्त पवित्र थाईपुसम उत्सव के दौरान विशेष रूप से पलानी मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं। थाईपुसम दिन पर, भक्तों की बड़ी संख्या ‘छत्रिस’ (कवडी) ले जाने वाले जुलूस के साथ मुरुगन मंदिरों की तरफ बढ़ते है। वे नृत्य के साथ आगे बढ़ते हैं, ड्रम को बजाते हैं और ‘वेल वेल शक्ति वेल’ का जाप करते हैं, जिसकी आवाज जुलूस को आंदोलित करती है,उसमें जोश भरती है।

मलेशिया (Malaysia) में आयोजित होने वाले थाईपुसम (Thaipusam 2023) त्योहार में लाखों तमिल श्रद्धालु शरीक होते हैं। ये त्योहार 10 दिनों तक मनाया जाता है, जिसका समापन माघी पूर्णिमा पर होता है। मलेशिया में कुआलालंपुर (Kuala Lumpur) के पास बातू गुफा (Batu Cave) में थाईपुसम का जोरदार उत्सव होता है। यहां यह त्योहार 1892 से मनाया जा रहा है यानी लगभग 130 साल पहले से। उत्सव के दौरान लाखों लोग बातू गुफा के नीचे बने मुख्य द्वार से गुजरते हैं और भगवान मुरुगन की विशाल प्रतिमा के दर्शन करते हैं। यहां भगवान मुरुगन की 140 फीट ऊंची प्रतिमा भी है।

थाईपुसम के दौरान सभी भक्त अलग-अलग तरीकों से भगवान मुरुगन को प्रसन्न करने का प्रयास करते हैं। कई श्रद्धालु कांवड़ लेकर चलते हैं, कुछ श्रद्धालु अपने माथे पर दूध का बर्तन लेकर चलते हैं। कुछ लोग सिर मुंडवाते हैं। कुछ भक्त भगवान मुरुगन को प्रसन्न करने के लिए अपने शरीर में धातु की पतली नुकीली खूंटियां घुसाते हैं। इन खूंटियों में धातु के छोटे बर्तन या नींबू भी टंगे होते हैं। कुछ भक्त भाले जैसी दिखने वाली एक छोटी खूंटी अपने दोनों गालों के आर-पार करते हैं।

क्या है थाईपुसम?

कांडा पुराणम (स्कंद पुराण का तमिल संस्करण) के अनुसार , तीन  सुरपदमन , तारकासुरन और सिंगामुखन ने शिव को प्रसन्न करने के लिए तपस्या की । शिव ने उन्हें विभिन्न वरदान दिए जिससे उन्हें तीनों लोकों पर विजय प्राप्त करने की क्षमता और लगभग अमरता प्राप्त हुई। बाद में उन्होंने देवताओं सहित अन्य दिव्य प्राणियों पर अत्याचार किया और अपने-अपने क्षेत्र में अत्याचार का शासन शुरू कर दिया। जब देवताओं ने शिव से सहायता की याचना की, तो उन्होंने पांच अतिरिक्त सिर प्रकट किये और उनमें से प्रत्येक से एक दिव्य चिंगारी निकली।  

प्रारंभ में, पवन-देव वायु ने चिंगारी उठाई, लेकिन असहनीय गर्मी के कारण अग्नि-देव अग्नि ने बाद में उन पर कब्ज़ा कर लिया। अग्नि ने चिंगारी को गंगा नदी में जमा कर दिया। अत्यधिक गर्मी के कारण गंगा का पानी वाष्पित होने लगा, और इसलिए देवी गंगा उन्हें सरवन झील में ले गईं, जहाँ चिंगारी से एक शिशु का जन्म हुआ। छह लड़कों को कृतिकाओं के नाम से जानी जाने वाली दासियों द्वारा पाला गया और बाद में पार्वती ने उन्हें एक में मिला दिया, इस प्रकार छह सिर वाले मुरुगन का जन्म हुआ।

पार्वती ने उन्हें एक दिव्य भाला दिया जिसे वेल कहा जाता है।  जब पार्वती गर्मी के कारण अपने आसन से भाग गई थी, तो उस समय उनकी पायल टूट गई थी। मुरुगन के साथ वीरबाहु भी थे, जो उनके सेनापति के रूप में कार्यरत थे और आठ अन्य, जो नौ शक्तियों से उत्पन्न पुत्र थे, जो पार्वती की टूटी हुई पायल के रत्नों से उत्पन्न हुए थे । चिंगारी से उत्पन्न देवों की सेना के साथ, मुरुगन ने असुरों पर युद्ध छेड़ दिया। मुरुगन ने अपने वेल से सुरपद्मन को दो भागों में विभाजित कर दिया। दोनों हिस्से आम के पेड़ में बदल गए और बाद में मोर और मुर्गे में बदल गए। मुरुगन ने मोर को अपनी सवारी के रूप में अपनाया और मुर्गे को अपने ध्वज के रूप में अपनाया । 

मुरुगन हिंदू धर्म में योग अनुशासन और तपस्या से जुड़े देवता हैं और उनके अनुयायी उन्हें उनकी पूजा करने वालों को मुक्ति (आध्यात्मिक मुक्ति) प्रदान करने में सक्षम मानते हैं।

कैसे मनाते हैं ?

त्योहार के दिन, भक्त भगवान के आगे अपना सिर झुकाते हैं और धार्मिक अनुष्ठान के विभिन्न कृत्यों में खुद को शामिल करते हुए तीर्थयात्रा के लिए बाहर निकलते हैं। विशेष रूप से इस दिन भक्त कांवड़ लेते हैं। कुछ भक्त कावंड़ के रूप में दूध का एक बर्तन लेते हैं। कुछ त्वचा, जीभ या गाल में छेद कर कांवड़ या बोझ लेते हैं। इस त्योहार में सबसे कठिन और तपस्या का जो अभ्यास होता है वो ‘वाल कांवड़’ है। वाल कांवड़ एक पोर्टेबल वेदी है जो लगभग दो मीटर लंबा है और मोर पंखों से सजा हुआ होता है। इसे भक्त अपनी छाती में छेद कराकर 108 वेल्स के माध्यम से शरीर में जोड़ते हैं। ये भक्त भगवान की भक्ति में इतने लीन रहते हैं कि इन्हें किसी भी तरह की दर्द, तकलीफ का अहसास तक नहीं होता।

वहीं यह छेद कराते वक्त ना खून निकलता है ना ही इन छेदों के निशान रह जाते हैं। कई बार थाईपुसम के दौरान भक्त स्वंय की भक्ति साबित करने के लिए आग पर चलते है एवं अपने आप को चाबूक मारते हैं। भक्तों के लिए थाईपुसम त्योहार भगवान मुरुगन के प्रति समर्पण का उत्सव है।  हालांकि भारत में संविदान द्वारा स्वयं को नुकसान पहंचाने वाले कृत्यों को निषिद्ध किया गया है इसके चलते तमिलनाडु में भक्त इस प्रकार स्वयं को शारीरिक कष्ट नहीं देते हैं जैसा कि मलेशिया के भक्त करते हैं।  

यह भी पढ़िए : एफटीआईआई है जेएनयू का नया पता

 मलेशिया में कावड़ी अट्टम  कावड़ी (तमिल में जिसका अर्थ है “बोझ”) स्वयं भक्त द्वारा उठाया गया एक शारीरिक बोझ है, जिसका उपयोग भक्त मुरुगन से सहायता के लिए प्रार्थना करने के लिए करता है। इसके अलावा विभूति , एक प्रकार की पवित्र राख, छेदन स्थलों सहित पूरे शरीर में फैलाई जाती है। भक्त स्वच्छ रहकर, नियमित प्रार्थना करके, शाकाहारी भोजन का पालन करके और ब्रह्मचर्य रहते हुए उपवास करके अनुष्ठान की तैयारी करते हैं।  वे नंगे पैर तीर्थयात्रा करते हैं और इन बोझों को उठाते हुए मार्ग पर नृत्य करते हैं।

यहां मानाया जाता है

थाईपुसम भारत , श्रीलंका , दक्षिण पूर्व एशिया में तमिलों द्वारा मनाया जाता है, विशेष रूप से  मलेशिया, सिंगापुर, थाईलैंड  और इंडोनेशिया में , तमिल मूल के महत्वपूर्ण लोगों वाले अन्य देशों जैसे फिजी , मॉरीशस , दक्षिण अफ्रीका  और  कनाडा ,  त्रिनिदाद और टोबैगो  , गुयाना सहित कैरेबियाई देशों में मनाया जाता है। और सूरीनाम , संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया सहित महत्वपूर्ण भारतीय प्रवासियों वाले देश । इस दिन मॉरीशस , मलेशिया के कई राज्यों और तमिलनाडु में छुट्टी होती है ।

error: Content is protected !!