28th November 2022

विकीपीडिया को चाहिए आपकी मदद

दुनिया के सबसे बड़े एनसाइक्लोपीडिया के सामने आर्थिक संकट

इंदौर.

इंटरनेट की दुनिया से जुड़ा कौन ऐसा है जो विकीपीडिया को नहीं जानता। बल्कि ये कहना चाहिए कि कौन ऐसा है, जिसने कभी जाने अनजाने विकीपीडिया की मदद न ली हो। आप दुनिया के इन फ्री ऑनलाइन एनसाइक्लोपीडिया के बिना का इंटरनेट की कल्पना भी कर सकते हैं? शायद नहीं। लेकिन इसके बाद भी विकीपीडिया केे सामने वित्तीय संकट की स्थिति है और पहली बार वो अपने उपयोगकर्ताओं से आर्थिक मदद मांग रहा है।

यदि आप विकीपीडिया की किसी लिंक को क्लिक करेंगे तो आपको वो जानकारी तो मिलेगी ही जो कि आपने सर्च की है। इसके साथ ही आपको सबसे ऊपर आर्थिक योगदान देने का संदेश भी दिखेगा। यही सदेश आपको आपका स्क्रीन के बॉटम में भी दिखेगा। विकीपीडिया कोई बड़ी राशि नहीं मांग रहा है। यह राशि 100 से 150 रुपए के बीच है। डोनेशन के लिए लिंक भी दी गई है।

गैर व्यावसायिक है विकीपीडिया

विकीपीडिया की इंटरनेट पर पहुंच बहुत है।। जब भी आप गूगल पर कुछ सर्च करेंगे तो परिणामों आपको कम से कम एक विकीपीडिया की लिंंक अवश्य मिलेगी। और ये लिंक भी आमतौर पर सबसे ऊपर ही मिलती है। लेकिन इसके बावजूद भी आपको कभी भी विकीपीडिया पर कोई विज्ञापन कभी दिखाई नहीं देगा। इसका कारण है कि विकीपीडिया व्यावसायिक उपक्रम नहीं है, नहीं तो शायद उसे डोनेशन मांगने की कभी आवश्यकता नहीं रहती।

विकीमीडिया फाउंडेशन चलाता है स्वयंसेवकों की सहायता से

जितनी जानकारी हमको गूगल, फेसबुक, whatsapp आदि के बारे में उतनी जानकारी विकीपीडिया के बारे में नहीं है। विकीपीडिया कभी न्यूज में भी नहीं रहा क्योंकि यह एक गैर व्यावसायित उपक्रम है जिसके चलते इसने अपने जनसंपर्क ( public relation ) और ब्रांडिंग आदि पर कुछ भी खर्च नहीं किया। इसके चलते इसे मीडिया में भी ज्यादा सुर्खी नहीं मिली।

इसके लिए आपके और हमारे जैसे लोग भी अपने घर पर बैठकर काम करते हैं। इसके लिए आपको इस पर अपना लॉग इन बना सकते हैं और इस पर प्रकाशित जानकारी को संपादित कर सकते हैंं, उसे बढ़ा सकते हैं और नई जानकारी लोड कर सकते हैं। इसी आधार पर इसकी आलोचना भी होती है कि इस पर उपलब्ध जानकारी को कोई भी एडिट कर सकता है। हालांकि अब विकीपीडिया ने इस पर फिल्टर लगाए हैं।

2001 से शुरु हुआ विकीपीडिया

विकीपीडिया की स्थापना 15 जनवरी 2001 को जिम्मी वेल्स और लैरी सेंगर ने की थी। सैंगर ने ही इसका नाम विकी और एनसाइक्लोपीडिया को मिलाकर विकीपीडिया रखा था। शुरुआत में यह केवल अंग्रेजी में था लेकिन अब बहुत सी भाषाओं में उपलब्ध है। इस पर 6.1 मिलीयन आर्टिकल्स (जानकारियां) उपलब्ध हैं। इतना ही नहीं प्रतिमाह इस पर डेढ़ सौ करोड़ यूजर अपने मतलब की जानकारियां खोजते हुए पहुंचते हैं। इतना ही नहीं इसकी कीमत 60 मिलीयन डॉलर आंकी जाती है।

ये भी पढ़ें 39 रुपए में कोरोना की दवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!