भारत बॉयोटेक के कोवैक्सीन को ब्राजील मेंं नहीं स्वीकृति, कहा निर्माण मानकों को पूरा नहीं करता वैक्सीन

ब्राजील की स्वास्थ्य निगरानी एजेंसी एन्विसा (Anvisa) ने स्वीकृति देने से किया इनकार

नई दिल्ली .

न्यूज एजेंसी रायटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत बायोटेक के कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) को ब्राजील में अनुमति देने से इनकार कर दिया है। वहां पर हर दवा को स्वास्थ्य निगरानी एजेंसी एन्विसा (ANVISA) की स्वीकृति की आवश्यकता होती है। इस एजेंसी ने कोवैक्सीन को निर्माण मानकों पर खरा नहीं माना है।

इस संबंध में ब्राजील के गजट में रिपोर्ट प्रकाशित की गई है। इसके पहले ब्राजील सरकार 2 करोड़ कोवैक्सीन डोज खरीदने के लिए ब्राजील में भारत बायोटेक का प्रतिनिधित्व करने वाली कंपनी ‘प्रेसिस मेडिकामेंटोस’ के साथ एक कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। यह अनुबंध एन्विसा की स्वीकृति के अधीन था।

भारत बायोटेक ने ब्राजील में अपनी वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के आपात मंजूरी के लिए आठ मार्च को आवेदन किया था। ब्राजीलियन वेबसाइट यूनिवर्सो ऑनलाइन के मुताबिक टीके की डिलीवरी मार्च और मई के बीच होनी थी। अभी यह तय नहीं है कि अब वैक्सीन की खरीदी होगी या नहीं या फिर आंशिक रूप से की जाएगी।

इन आधारों पर नहीं मिली स्वीकृति

रिपोर्ट के मुताबिक ‘अच्छे उत्पादन प्रैक्टिस के कई नियमों के अनुपालन करने में नाकामी’ के चलते कोवैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग मानकों पर खरा नहीं उतर पाया है। इसमें दस्तावेजीकरण (Documentation), आकलन के तरीकों इत्यादि चीजें शामिल थीं। इसके साथ ही जीवाणुरोधी, कीटाणुनाशक, वायरस को हटाने या निष्क्रिय करने के लिए अपनाए गए तौर-तरीकों पर भी सवाल उठाया गया है।

एन्विसा से मंजूरी पाने वाले कोविड-19 टीकों में कोरोनावैक (सिनोवैक बायोटेक द्वारा उत्पादित), जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन, फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन और ऑस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी वैक्सीन शामिल हैं।

भारत बायोटेक ने 40 से ज्यादा देशों में कोवैक्सीन की मंजूरी के लिए नियामक दस्तावेज फाइल करना शुरू किया है। कंपनी ने दावा किया था कि इन देशों में ब्राजील, फांस और संयुक्त अरब अमीरात भी शामिल हैं। भारत में इस वैक्सीन को स्वीकृति दिए जाने पर विवाद हुआ था।

1 thought on “भारत बॉयोटेक के कोवैक्सीन को ब्राजील मेंं नहीं स्वीकृति, कहा निर्माण मानकों को पूरा नहीं करता वैक्सीन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!