6th December 2022

एक साल में बेअसर हो जाएगी कोरोना की वैक्सीन

दुनिया के एक तिहाई विशेषज्ञों की राय

न्यूयॉर्क.

कोरोना के वैक्सीन को लेकर दुनियाभर में जो उत्साह है उसके लिए य खबर ठीक नहीं है। दुनिया के अधिकांश विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना की वैक्सीन एक साल में बेअसर हो जाएगी। एक संगठन म्यूटेशन पीपुल्स वैक्सीन अलायंस की ओर से 28 देशों के 77 महामारी विज्ञानियों, वायरोलॉजिस्ट और संक्रामक रोग विशेषज्ञों के बीच इसे लेकर एक सर्वे किया गया है। इस सर्वे के परिणामों ने दुनिया भर के लोगों की चिंता बढ़ा दी है।

सर्वे में कईं विशेषज्ञों का कहना है कि कोरना के टीके एक वर्ष या उससे कम समय में बेअसर हो सकते हैं। मंगलवार को इस संबंध में सर्वे प्रकाशित किए गए थे, जिसमें यह चेतावनी दी गई कि कोरोना वायरस के मौजूदा टीके इस महामारी से पूरी तरह निपटने के लिए पर्याप्त नहीं हैं।

एक तिहाई ने कहा नौ माह में बेअसर हो जाएगा वैक्सीन

खास बात यह है कि इस सर्वेक्षण में शामिल एक तिहाई विशेषज्ञों ने कहा कि वैक्सीन नौ महीने में ही बेअसर हो जाएगा। वहीं 12.5 प्रतिशत ने माना की वाइरस का म्यूटेशन वैक्सीन को प्रभावित नहीं करेगा। लघऊग 88 प्रतिशत ने कहा कि कई देशों में लगातार कम वैक्सीन कवरेज से वैक्सीन प्रतिरोधी म्यूटेशन दिखाई देने की अधिक संभावना होगी।

अफ्रीकी गठबंधन, ऑक्सफैम और यूएनएड्स सहित 50 से अधिक संगठनों के गठबंधन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस ने चेतावनी दी है कि वर्तमान दर पर यह संभावना थी कि गरीब देशों के बहुमत में केवल 10 प्रतिशत लोगों को अगले साल में टीका लगाया जाएगा।

वैक्सीन का कॉपी राईट तोड़ना होगा

सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से लगभग तीन-चौथाई जिनमें जॉन हॉपकिन्स, येल, इंपीरियल कॉलेज, लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी, एडिनबर्ग विश्वविद्यालय और केप टाउन विश्वविद्यालय – सहित महामारीविद्, विषाणुविज्ञानी और संक्रामक रोग विशेषज्ञ शामिल थे, ने कहा कि प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा का खुला साझाकरण वैश्विक वैक्सीन कवरेज बढ़ा सकता ह

वाइरस का म्यूटेशन वैक्सीन के लिए समस्या

ब्रिटेन में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में ग्लोबल पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर देवी श्रीधर ने कहा, ‘जितना अधिक वायरस फैलता है, उतनी अधिक संभावना है कि म्यूटेशन और परिवर्तन उत्पन्न होंगे, जो हमारे वर्तमान टीकों को अप्रभावी बना सकते हैं। इसी समय, गरीब देशों को बिना वैक्सीन और ऑक्सीजन जैसे बुनियादी चिकित्सा आपूर्ति के बिना पीछे छोड़ दिया जा रहा है।’

उन्होंने कहा कि जैसा कि हमने सीखा है, वायरस सीमाओं के बारे में परवाह नहीं करते हैं, हमें दुनिया में हर जगह जितनी जल्दी हो सके उतने लोगों को टीकाकरण करना है। इसके आगे बढ़ने के बजाय इंतजार और घड़ी क्यों करें? जबकि उन्होंने येल विश्वविद्यालय में महामारी विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर, ग्रेग गोंसाल्विस, एक समय-सीमा को निर्दिष्ट नहीं किया था, विश्व स्तर पर टीकाकरण करने की तात्कालिकता को प्रतिध्वनित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!