24th February 2024

दलित राजनीति में उफान..!!

बसपा समर्थकों का आरोप, भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी के नेताओं को भाजपा से मिले लाखों रुपए

बहुजन समाज पार्टी और भीम आर्मी तथा आजाद समाज पार्टी के बीच की खींचतान के बीच सोशल मीडिया पर वायरल पर्चे के जरिए  भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी पर भाजपा से आर्थिक मदद लेने का आरोप लगाया गया है। हस्तलिखित इस पर्चे में मुख्यमंत्री, गृहमंत्री तथा भाजपा के अन्य पदाधिकारी के कहने पर भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह और दो अन्य लोगों को लगभग 70 लाख रुपए का भुगतान करने का विवरण है। हम इस पर्चे की सत्यता की पुष्टि नहीं करते।

साथ ही विनय रतन सिंह का डॉ प्रवीण तोगड़िया के साथ पुराना फोटो भी सोशल मीडिया पर चलाया जा रहा है। इस फोटो के जरिए उनके तार भाजपा और हिंदूवादी संगठनों से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। यह फोटो उसे समय का बताया जा रहा है जब तोगड़िया विश्व हिंदू परिषद से अलग नहीं हुए थे। 

दलित वोटो को लेकर बहुजन समाज पार्टी और आजाद समाज पार्टी तथा भीम आर्मी के बीच जमकर रस्साकसी चल रही है। दोनों ही पक्ष एक दूसरे पर दलित हितों के साथ समझौता करने का आरोप लगाते रहते हैं लेकिन अब मध्य प्रदेश चुनाव में भीम आर्मी के नेताओं पर भारतीय जनता पार्टी से आर्थिक मदद लेने के आरोप लग रहे हैं। इस संबंध में डायरी के दो पेज सामने आए हैं। डायरी के पन्ने ऊपर हेडर पर भारतीय जनता पार्टी का नाम छपा है। इसके नीचे भाजपा के अलग-अलग नेताओं जिसमें मुख्यमंत्री और गृहमंत्री शामिल हैं, के निर्देश पर आजाद समाज पार्टी और भीम आर्मी के कुछ लोगों को पैसों का भुगतान करने का विवरण है।

इन पन्नों पर भुगतान की तिथियां भी अंकित हैं तथा उन आयोजनों का भी उल्लेख है जिसके लिए भुगतान किया गया है। इन पन्नों में भुगतान प्राप्त करने वालों में भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह, आजाद समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुनील अस्तेय तथा सुनील बैरसिया के नाम लिखें हैं।

यह विवरण भुगतान का प्रमाण नहीं देता लेकिन फिर इसे लेकर भीम आर्मी और बहुजन समाज पार्टी समर्थकों में आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। दोनों की राजनीतिक लड़ाई भी एक ही वोट बैंक से जुड़ी हुई है।  इस मामले में बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रमाकांत पीपल का कहना है कि आरोप भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी पर हैं उसका जवाब वे ही देंगे। हमारा इससे कोई लेना देना नहीं है। 

प्रदेश अध्यक्ष पर भाजपा की मदद का आरोप

आजाद समाज पार्टी के डबरा से प्रत्याशी और पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष रुपेश कैन ने खुलेआम आजाद समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुनील अस्तेय पर लगाया है कि उन्होंने भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार किया। उन्होंने कहा कि अस्तेय आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद को धोखा दे रहे हैं। वे जिस वाहन में घूम रहे थे उसकी अनुमति भाजपा ने ली थी। कैन का यह भी कहना है कि अस्तेय और अन्य कार्यक्रमों के पहले पैसा लाते थे लेकिन कहां से लाते थे ये नहीं पता। बताया गया है कि इस मामले में आजाद समाज पार्टी ने कमेटी का गठन किया है जो रूपेश कैन की शिकायत की जांच करेगी। 

हमारी लड़ाई तो भाजपा से ही 

मैंने भी सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए वह डायरी के पन्ने देखे हैं। हमारी तो लड़ाई ही भारतीय जनता पार्टी से है। हम समाज में समानता लाने का संघर्ष कर रहे हैं और मैं तो राजनीति से दूर हूं। फिर भी लोग तरह-तरह के आरोप लगाते रहते हैं। कभी सोचा नहीं था कि सामाजिक कार्य करने के दौरान भी लोग इतना षड्यंत्र करेंगे। मामला झूठा है।  इसमें कोई सच्चाई नहीं है। 

विनय रतन सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, भीम आर्मी। 

बदनाम करने का षड्यंत्र 

आजकल डीप फेक का जमाना हैसरकार भी इसको लेकर बहुत चिंतित है। मुझे यह उसी प्रकार का मामला लगता है। ये भारतीय जनता पार्टी को बदनाम करने का षड्यंत्र दिखाई देता है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है। 

मिलन भार्गव, प्रदेश प्रवक्ता, भाजपा। 

error: Content is protected !!