30th September 2022

अमेरिकी कोर्ट में पकड़ा गया गुजरात का IELTS घोटाला

अंग्रेजी प्रोफिशिएंसी टेस्ट पास करके अमेरिका पढ़ने पंहुचे स्टूडेंट कोर्ट में अंग्रेजी नहीं बोल पाए

कनाडा के रास्ते अवैध रूप से अमेरिका में घुसे थे मेहसाणा के चार युवा

विदेश जाने की चाह में आदमी क्या-क्या नहीं करता है इसका उदाहरण मेहसाणा के 4 युवाओं के मामले में देखने में आया है। यह चार युवा अमेरिका जाना चाहते थे इसके लिये इन्होंने स्टूडेंट वीजा चुना। स्टूडेंट वीजा लेने के लिए इन्होंने कनाडा के एक विश्वविद्यालय में एडमिशन लिया और इस एडमिशन के लिए इन्होंने IELTS यानी International English Language Testing System का टेस्ट अच्छे अंकों के साथ पास किया। इसके बाद यह युवा अमेरिका में अवैध रूप से प्रवेश करते पकड़े गए और वहां पर जमीनें कोर्ट में पेश किया तो यह जज के सवालों का अंग्रेजी में उत्तर नहीं दे सके इसके बाद IELTS टेस्ट का घोटाला सामने आया है। 

कोर्ट में जब जज ने इन युवाओं से अंग्रेजी में सवाल जवाब किए तो ये युवा अंग्रेजी नहीं बोल पाए और कोर्ट को इनकी बातें समझने के लिए हिंदी ट्रांसलेटर को बुलाना पड़ा। इसके बाद कोर्ट ने इसकी जानकारी अमेरिकी उच्चायोग के अपराध जांच शाखा को सौंपी। ये युवा गुजरात के मेहसाणा के अलग-अलग गांव में रहने वाले हैं इसके चलते यह मामला मेहसाणा पुलिस को सौंपा गया है। इन चारों स्टूडेंट्स को IELTS में 6.5 से 7 के बीच अंक मिले थे।

 सीसीटीवी बंद करके हुई थी एग्जाम

मामले की जांच मेहसाणा पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के इंस्पेक्टर भावेश राठौड़ कर रहे हैं। अब तक की जांच के आधार पर उन्होंने बताया कि IELTS की परीक्षा लेने वाली एजेंसी ने भारी गड़बड़ी की है। इन चारों छात्रों ने नवसारी मैं एक परीक्षा केंद्र से IELTS की परीक्षा दी थी। इसके लिए परीक्षा लेने वाली एजेंसी ने मैरिज गार्डन को परीक्षा केंद्र बनाया था। राठौड़ ने बताया कि मैरिज गार्डन के संचालक ने जानकारी दी है कि एजेंसी ने परीक्षा वाले दिन वहां के सीसीटीवी बंद करा दिए थे। इसका मतलब है कि परीक्षा में जमकर नकल हुई और इन 4 छात्रों को इतने अंक मिले हैं जितने की टॉप स्टूडेंट बड़ी मेहनत के बाद पाते हैं।

मेहसाणा के जिन 4 छात्रों को अमेरिका में पकड़ा गया है उनके नाम है ध्रुव पटेल, सावन पटेल, नील पटेल और उर्वीश पटेल। इन लोगों ने सितंबर 2021 में IELTS की परीक्षा दी थी और इस साल मार्च में इन्होंने स्टूडेंट वीजा हासिल कर कनाडा की कॉलेज में एडमिशन लिया था। उसी समय यह लोग अमेरिका कनाडा बॉर्डर पर स्थित रेजीस नदी में एक डूबती हुई नौका से पकड़े गए थे। इनकी उम्र 19 से 21 वर्ष के बीच है। इनके कारनामों से अमेरिकी प्रशासन को संदेह है कि यह अवैध रूप से अमेरिका में रहने के लिए घुसने की कोशिश कर रहे थे। मेहसाणा पुलिस के इंस्पेक्टर भावेश राठौड़ ने बताया कि परीक्षा लेने वाली एजेंसी अहमदाबाद की है और उसके संचालक को 48 घंटे के भीतर पुलिस के सामने पेश होने के लिए कहा गया है। 

क्या है IELTS

IELTS यानी International English Language Testing System। जिन देशों की अंग्रेज़ी मुख्य भाषा है, उन देशों में रहने, पढ़ने और काम करने के लिए अंग्रेजी का टेस्ट देना अनिवार्य होता है। अंग्रेज़ी के कई सारे टेस्ट है, जिनमें से IELTS सबसे प्रसिद्ध है।

ये टेस्ट उन लोगों के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिनकी अंग्रेजी मुख्य भाषा नहीं है जैसे भारतीय, पाकिस्तानी, बांग्लादेशी, नेपाली, आदि। ये लोग जब उन देशों में रहने, पढ़ने या काम करने जाते हैं जहाँ की मुख्य भाषा अंग्रेजी है जैसे, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड, यूके और यूएसए, तो वहाँ के लोगों से बातचीत करने और वहां काम करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसके चलते इन्हें यह टेस्ट पास करना जरूरी होता है इसके बाद ही इन्हें वहां का वीजा मिलता है। 

error: Content is protected !!